हर तरह के लोगों के लिए ब्यूटी टिप्स


अगर मैं ये कहूं कि यहाँ मैं आपको कुछ ऐसे ब्यूटी टिप्स देने वाली हूँ जो आपको हमेशा जवान रखेगा और आपको हर  तरह के ख़राब मौसम से भी बचाएगा तो मैं कुछ बढ़ा चढ़ा  के नहीं कह रही। मगर मुझे एक बात यहाँ साफ़ साफ़ कहनी है की ये पोस्ट उन हज़ार तरह के आर्टिकल्स के जैसे नहीं है जो आपको आम ब्यूटी टिप्स देते हैं जैसे आप रोज़ अपने शरीर को आठ गिलास पानी से भरें या हफ्ते में दो या तीन बार उन चीज़ों से बने फेस मास्क लगायें जो नंबर में  उन चेहरों से भी ज्यादा हैं जितने आपने अपने अब तक के जीवन में नहीं देखा होगा। ये पोस्ट उन जैसे आर्टिकल्स जैसा नहीं है। यहाँ मैं असल ब्यूटी टिप्स की बात कर रही हूँ जो आपको हमेशा शानदार और खूबसूरत बनाये रखेगा भले ही आप किसी भी उम्र के हो, आपकी त्वचा अलग हो, आप स्त्री हैं या पुरुष इत्यादि। ये टिप्स आपके व्यक्तित्व के जादू को हमेशा बरकरार रखेगा। इन खूबसूरत टिप्स को अपने व्यक्तित्व के उपर ज़रुरत के हिसाब से अमल में लायें। उनका असर देखें और एक सितारे की तरह चमकते रहे...हमेशा।

तो देर किस बात की दोस्तों? चलिए काम की बात करते हैं।

सकारात्मक सोच रखें: अगर आप आनुवंशिक रूप से ब्लड ग्रुप बी+ के मालिक नहीं हैं (लेकिन मैं हूँ) तो आगे पढ़िए। मेरा ये अनोखा विश्वास है की हम सभी अपने चारों तरफ एक खास तरह का माहौल यानी एरेना बना के चलते हैं जो हमारे सोच और कार्य से बना है। ये खास तरह का एरेना एक खास तरह की तरंगें बनता है जिन्हें वाइब्स कहते हैं। ये वाइब्स हमारे लिए काम करती हैं। अपनी बात को सही तरीके से समझाने के लिए मैं आपको एक मिनट देती हूँ वो पल याद करने के लिए जब आप किसी अजनबी इंसान से मिले और कुछ पलों बाद आपके मुंह से उस इंसान के लिए निकला कि आप उसे पसंद नहीं करते भले ही आप दोनों के बीच बेहद आम बातें हुई हो जैसे मौसम सम्बन्धी, पार्टी, व्यवसाय या फिर आपके लिविंग रूम के दीवार के रंग के बारे में। या, आप एक ही इंसान से बार बार मिले हो मगर फिर भी उसके साथ एक निश्चित दूरी बनाये रखना चाहते हैं भले ही वो इंसान आपसे दोस्ताना व्यवहार रखता हो। यह मेरे साथ भी कभी कभी हुआ है। इन सबके पीछे दो जादुई मन्त्रों का हाथ है जे के रोव्लिंग्स के मन्त्रों की तरह: उस इनसान का एरेना जिससे आप मिलते हैं (जो वाइब्स भेजता है) और आपका एरेना (जो उन वाइब्स को ग्रहण करता है).



आपका एरेना आपकी अपनी परछाईं से भी ज्यादा आपके साथ रहता है। आप इसे कभी देख नहीं सकते मगर दुसरे इसे महसूस कर सकते हैं। आपका एरेना ऐसे वाइब्स भेजता है जो आपकी सोच से बना है और आपकी सोच आपके अपने कार्यों से। अगर आप ऐसे काम करते हैं जो आपके व्यक्तित्व में विकास लाते हैं और आपको एक सकारात्मक इंसान बनाते हैं तो आपका एरेना सकारात्मक वाइब्स भेजता है और अगर आपके नज़दीक आने वाला इंसान आप ही की तरह का है तो आप दोनों के एरेना ऐसे मिल जाते हैं आपस में जैसे एक प्यारी दादी माँ और बच्चे का आलिंगन। वाइब्स अपना काम आपके पूरे वक्तव्य के दौरान करता रहता है और अगर आप दोनों की सोच मिल जाती है तो वाह...आप दोनों अच्छे दोस्त बन सकते हैं। मगर ये बात अलग हो जाती है जब आपके संपर्क में आने वाला इंसान आपसे दूसरी तरह की सोच रखता है (जैसे नकारात्मक, उदासीन, आध्यात्मिक, दार्शनिक इत्यादि). आपके एरेना और इनसे आने वाले वाइब्स बिलकुल ही दो ध्रुवों की तरह हो जायेंगे और आप दोनों एक दुसरे से अलग होकर अपना काम ख़तम करेंगे।

मगर कौन दोस्तों को अपने से दूर रखता है अगर आप वो ना हो जिसका-नाम-नहीं-लिया-जा-सकता? सकारात्मक सोच रखें और आपकी सोच लोगों को आपके पास खींच के ले आएगी। जिन लोगों को हम पसंद करते हैं उनके साथ रहना बहुत सारी बातों में से एक अच्छी बात है और जैसा की हम सब जानते हैं की...ख़ुशी अनंत सुन्दरता की चाबी है। सकारात्मक सोच रखें, मुस्कुराते रहे और अपने चेहरे की झुर्रियों से निजात पाएं।

जैसे हैं वैसे ही रहे: सारे पेरेंट्स मेरी इस बात से सहमत होंगे अगर मैं कहूं कि  बच्चों को सामान इधर उधर फैलाना बहुत अच्छा लगता है। जब तक कि उन्हें कोई बड़ी प्रेरणा ना दें वो अपना सामान कभी ठीक नहीं करते। उनके चेहरे हमेशा चमकते रहते हैं और कोई चिंता उनके चेहरों पर नहीं दिखाई देती भले ही आने वाला अगला दिन क़यामत का दिन ही क्यों न हो। क्या आप जानते हैं उनके हमेशा चमकते चेहरों का राज़? क्योंकि वो वही हैं जो वो करते हैं और वो वो ही करते हैं जो उन्हें पसंद है। बेहद आसन सी बात है। वो जो भी करते हैं उसके बारे में कभी परेशान नहीं होते और येही बात उन्हें सबका प्यारा और सबसे खूबसूरत बनती है।




मगर मेरे कहने का ये मतलब नहीं की आप अचानक से बच्चे बन जाएँ और एक छोटी सी इच्छा के पीछे परेशान हो जायें। मैं कहना चाहती हूँ की :: जो आपको पसंद है आप वोही करें; जैसे हैं आप वैसे ही बने रहे। अपनी बात को समझाने के लिए अगर मैं अपने बारे में नहीं बताऊँ कि मैंने ये कैसे करती हूँ तो मेरा ये पोस्ट लिखने का कोई मतलब नहीं रह जायेगा। तो मैं कुछ बातें बताती हूँ जो मैं बदलने की कोशिश नहीं करती। हर रोज़ मेरे पास कुछ घंटों का सुनेहरा समय होता है। इस पूरे समय में मैं वोही करती हूँ जो मुझे अच्छा लगता है। मैं पढ़ती हूँ, लिखती हूँ, गाने गाती हूँ, डांस करती हूँ, कवितायेँ लिखने की कोशिश करती हूँ (जिसमे अक्सर फ़ैल हो जाती हूँ और मैं परेशान नहीं होती। कम से कम मैं कोशिश तो करती हूँ ना), टीवी पैर वैम्पायर डायरीज देखती हूँ, कभी कभी अपने फेवरेट नूडल को खाती हूँ, सोफे पर ही सो जाती हूँ टीवी देखते देखते, अपने को दिए हुए कार्य को करती हूँ या कभी कभी दिन भर सिर्फ सोती ही रहती हूँ। मुझे यूँ लग रहा है जैसे आप को मेरी कुछ आदतें अच्छी नहीं लगी हो मगर मैं इन्हें ख़ुशी से करती हूँ। अपनी आदतों की वजह से ही आज मैं कुछ हूँ। लिखने और पढने की आदत ने मुझे एक लेखक बनाया, कभी कभी नूडल्स खाने से संतुष्टि मिलती है जिससे मैं अपने आप को इन सब से लम्बे समय तक बचाए रखती हूँ, अलौकिक चीज़ें जैसे वैम्पायर डायरीज मुझे अच्छी लगती हैं, खुद को दिए कार्य को करने से मुझे संतुष्टि मिलती है और सोफे पर ही सो जाने से मुझे थोड़ी देर की वो नींद मिलती है जिसका बाकी समय मिलना बहुत मुश्किल होता है। और कभी कभी पूरे दिन आराम करने से शरीर को एक ब्रेक मिलता है जैसे किसी छुट्टी पर जाने से मिलता हो। मैं वैसे ही रहती हूँ जैसे मैं हूँ और मैं इसे पसंद भी करती हूँ। इसी तरह से आपको जो अच्छा लगे आप वोही करें। ये आपके शरीर और चेहरे की मांसपेशियों को आराम देता है। खुद को हमेशा अपने साथ रखने से आप हमेशा जवान रहेंगे। ये आपको हमेशा याद दिलाएगा की भले ही आपने कितने भी बुरे मौसम (समय) को देखा हो, आप खुद के साथ हमेशा से हैं।

एक नया काम शुरू करें: मेरे कहने का मतलब है की आप अपने लिए एक नया काम चुनें और उसे करें। मेरे लिए गिटार सीखना मेरे सपनों में से एक है जिसे मैं एक दिन ज़रूर पूरा करूंगी मगर अभी के लिए मैंने दो blogs  शुरू किये हैं जिसे मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि  करूंगी। हर दिन एक नया पोस्ट लिखना मुझे चुनौती भरा लगता है; मुझे ख़ुशी देता है और मुझे ऐसी जगह ले जाता हैं जहाँ विचार्रों का भण्डार है। मैं अपने आप को कभी लिखने के लिए मजबूर नहीं करती। ये अपने आप ही आता है। एक पोस्ट लिखने के बाद मुझे बेहद ख़ुशी होती है। ठीक इसी तरह आप भी कुछ ऐसा चुनें जो आपकी काबिलियत को, आपको चुनौती दे। मगर अगर आप बाथरूम में गाने वाले बेसुरे गायक हैं तो बेहतर होगा की आप सबके सामने न गायें। मेरे कहने का मतलब है कि आप वोही करें जो आपके व्यक्तित्व को शोभा दे।

मैं अपने बारे में यहाँ कुछ बताना चाहूंगी। मैंने दो समर कैम्प्स में आर्ट एंड क्राफ्ट टीचर का काम किया है। उस समय टीचर का काम मेरे लिए बहुत नया था मगर मुझे पता था की मैं ये काम कर सकती हूँ और बच्चों के साथ मेरी अच्छी बनती है। मेरे प्रयास को उन कैम्प्स में बहुत सराहा गया। मैंने अपने घर में एक आर्ट एंड क्राफ्ट का प्रदर्शन यानी sale रखा था। उस sale में मैंने अपने हाथ से बनायीं हुई कई खूबसूरत चीज़ें रखी थी। ये कला मैंने कुछ समय पहले सीखी थी और अपने एक दोस्त की मदद से मैंने ये sale रखने का निश्चय किया। मेरे लिए इस sale को सफल बनाना एक बहुत बड़ा कार्य था मगर फिर भी मैंने किया। मुझे खुद के बारे में पता था की मुझमे रचनात्मकता, प्रबंधन और व्यवहार कुशलता की काबिलियत है। मैं ये कर सकती हूँ। बहुत सारी महिलाएं और बच्चे आये और मेरे हाथो का बना सामान खरीदा। मुझे बेहद ख़ुशी हुई। उन सभी ने मेरे हाथों के बने सामान की बहुत तारीफ़ की। जबकि मेरे अंदर इस sale को सफल बनाने के गुण थे मगर फिर भी ये मेरे लिए एक चुनौती था। और मैं ख़ुशी से कह सकती हूँ कि अपने लगातार कोशिशों और काम के प्रति लगन से मैं अपनी हर चुनौती को जीत लेती हूँ। मुझे अभी भी निरंतर सीखते रहने में विश्वास है। मैंने शादी के बाद भी कई सारी कलाओं को सीखा है। मेरी ये सोच कभी नहीं रही की शादी आपके प्रतिभा में कोई बाधा है। अगर आपमें चाह है तो अपने परिवार की प्रेरणा से आप आसमान भी छू सकते हैं।

अगर आपको ऐसा लगता है कि आप ने ज़िन्दगी में सभी कुछ कर लिया है और अब कुछ बाकी नहीं है जिसके लिए आपको उत्साहित होना चाहिए तो मुझे आपकी आँखों पर पड़ी इस पट्टी को हटाने दे क्योंकि ये ही सही समय है एक नए काम को शुरू करने का। ज़िन्दगी छोटी है (या लम्बी अगर आप अपने किसी महत्त्वपूर्ण कार्य के ख़तम होने का इंतज़ार कर रहे हैं). कुछ ऐसा ढूंढें और करें जिसे करने से आपको एक नयी पहचान मिले; ऐसा जो आपको दूसरों से अलग बनाये। अपने अंदर के हैरी पॉटर को पहचानें। मुझे अपना हर blog पोस्ट लिखने में बेहद ख़ुशी होती है। यह मुझे कई लोगों से अलग बनता है। लोग मेरे blogs को पढ़ते हैं और मेरे लिखने के तरीके की तारीफ करते हैं। मैं अपनी शादी के बाद भी लिखती हूँ। यह अभी भी मेरे साथ है और हर एक नए शब्द को लिखते रहने से इसमें विकास भी हो रहा है। मैं एक पहचान महसूस करती हूँ। मगर फिर भी मैं इस बात का घमंड नहीं करती। क्योंकि मैं अभी भी खुद को और पहचानने में व्यस्त हूँ। मैं कुछ अच्छा करने की कोशिश में हूँ और उम्मीद करती हूँ कि एक दिन सभी लोग मेरे काम की बेहद प्रशंसा करेंगे।

अपने अंदर के भूखे इंसान को जगाइए और इस दुनिया को कुछ अच्छा देने की कोशिश कीजिये।

इसी पोस्ट को English में इस link पर देखें।














Comments

Popular posts from this blog

निर्भया के लिए अमिताभ बच्चन की विलक्षण श्रद्धांजली

क्या प्यार ही सब कुछ है ?