14 May 2013

पानी बचाएँ जीवन बचाएँ

" जल ही जीवन है" यह बात हम बचपन से सुनते आ रहे है। आज जब हमारी धरती पर पानी की अथाह कमी हो गयी है तो यह बात सत्य नज़र आती है. आज समूचा विश्व पानी के संकट से गुज़र रहा है. ग्लोबल वाम्रिंग और सूखा जैसे संकट हमारे सिर पर खतरनाक साए की तरह मंडरा रहे है।

इसीलिए हमारा फ़र्ज़ बनता है कि पानी की एक एक बूँद बचाएँ। इसके लिए नीचे दिए गए उपायों को अपनाएं और जीवन बचाएँ।

१. ब्रश करते समय या हाथ धोते समय नल को अन्यथा ना बहने दे. इससे पानी की बचत होगी।

२. बच्चों को पानी की कीमत के बारे में समझाएं। बचपन में डाली गयी अच्छी आदतें बड़े होकर स्वाभाविक रूप से व्यवहार में आ जाती हैं।

३. जितने हो सके उतने पेड़ लगायें। पृथ्वी को सिर्फ पानी के संकट से ही नहीं वरन अन्य कई मुसीबतों से बचाने में पेड़ अनन्य रूप से सहायक होते हैं।

४. वाशिंग मशीन या घर का कोई अन्य एप्लायंस खरीदते समय इस बात का ध्यान रखें कि उस पर Eenrgy Star (*) mark लगा हो. ऐसे उपकरण पानी के साथ साथ बिजली, समय और पैसों की भी बचत करते हैं। फ्रंट लोड वाशिंग मशीन टॉप लोड वाशिंग मशीन के मुकाबले पानी की खपत कम करता है।

५. अगर आपके घर पौधे या कोई गार्डन है तो पौधों को सुबह या शाम को पानी दे. दोपहर या दिन में देरी से दिया गया पानी धूप के असर से भाप बनके उड़ जाता है और पौधों को आवश्यक मात्र में पानी नहीं मिल पाता।

६. घर या घर के बाहर जितने भी पाइप्स, टुब्स  या नल लीक कर रहे हो, उन्हें तुरंत ही ठीक करवाएं। याद रखें एक एक बूँद ज़रूरी है.

७. शावर से नहाना काफी सुविधाजनक होता है. छोटा शावर हेड खरीदें। इससे अनावश्यक पानी बहने से बचेगा। और ज़रुरत से ज्यादा ना नहाएं। नहाने के समय को मात्र दो या तीन मिनट ही कम कर देने से एक व्यक्ति १५० गैलन पानी बचा सकता है.

८. आटोमेटिक वाशिंग मशीन तभी लगायें जब कपडे ज्यादा मात्रा में इकट्ठे हो गए हो। कम कपडे लगाने से भी वाशिंग मशीन उतनी ही मात्रा में पानी इस्तेमाल करेगा जितनी कि पूरे कपडे होने से. ऐसा करने से आप पानी की तो बचत करेंगे ही साथ ही साथ अपने बिजली के बिल पर भी नियंत्रण पा सकेंगे।

९. घर का पानी का बिल कितना आ रहा है और पानी का मीटर कितनी रीडिंग दे रहा है, इसका खासतौर पर ख्याल रखें।ज्यादा बिल आने से या ज्यादा मीटर रीडिंग होने पर तुरंत ही पानी के उपयोग में कटौती लायें।

१०. फल, सब्जियां इत्यादि धोने के लिए एक गहरे बर्तन में पानी भर लें और तब उन्हें धोएं। नल से गिरते हुए लगातार पानी से धोने से पानी अनावश्यक रूप से बर्बाद होगा। बर्तन में धोने के बाद बचे हुए पानी को पौधों में डालने के काम लायें।

११. दिन भर में कई गिलासों में पानी पीने की आदत से निजात पाएं। एक गिलास फिक्स कर दे और उसी में दिन भर पियें। जितने बर्तन गंदे होंगे उतना ही पानी नष्ट होगा।

१२. अपने घरों में Rain Harvesting System लगवाएं। ऐसा सिस्टम बारिश के पानी को इकठ्ठा करके उसे शुद्ध बनाता है। ऐसे प्रोसेस से शुद्ध पानी पीने के भी काम में लाया जा सकता है.

१३. कपडे या बर्तन धोने के लिए उन्ही डिटर्जेंट पाउडर का इस्तेमाल करें जिनसे कम झाग बनता हो. झाग को बहाने में बहुत सारा पानी बर्बाद हो जाता है। साथ ही साथ अपने घर की दाइयों को भी पानी समझदारी से इस्तेमाल करने के निर्देश लगातार देते रहे।

१४. कभी कभी घरों में पानी आना बंद हो जाता है। ऐसा होने पर नल खुला ना छोडें। बीच बीचे में खुद जाकर चेक करते रहे। नल खुला छोड़ दिया और उसी समय घर से बाहर चले गए और अगर नल में पानी आ गया तो आप अनुमान लगा ही सकते हैं कि आप कितनी मात्रा में पानी बर्बाद करने की ज़िम्मेदार हो सकते हैं।

१५. अपने आस पास के लोगों को भी पानी बचाने से होने वाले लाभ के बारे में समझाएं। उन्हें पानी कम होने से होने वाले नुक्सान से भी अवगत करायें।

याद रखें, हम अपने आज के छोटे छोटे कदमों को कल एक बड़ी जीत में बदल सकते हैं।


















No comments:

Post a Comment

Let's hear your view on this, shall we?