मैं, मेरा बेटा, भतीजी और गिटार

अगर आपको लगता है कि प्यार ही सिर्फ वो ताक़त है जो आपको मदहोश कर सकता है तो मैं कहूँगी आप गलत हैं। आज शाम जिस तरह की बारिश हुई, उसने प्यार को एक बहुत बड़ी चुनौती दी है। मौसम बहुत ही खुशनुमा हो गया था। अभी भी अच्छा ही है। इसी वजह से शायद कॉफ़ी की एक ग़र्म प्याली मेरे साथ है। अगर आपको भी तलब लग रही हो तो आप भी अपने लिए भी एक की व्यवस्था कर सकते हैं। 

तो आज मैं आप सभी से एक बहुत ही प्यारी वीडियो शेयर करने के लिए आयी हूँ। हाल ही में मैं अपने माँ-बाप के घर गयी थी। वहां एक शाम मैं अपने गिटार पर गाने गाकर रियाज़ कर रही थी कि मेरी भतीजी आ गयी।  मैंने उसे भी साथ गाने को कहा। इसी सिरे में मेरा बेटा भी जुड़ गया। क्या ही पता था कि उस शाम की वो हलकी फुलकी सी मस्ती दिल में एक अच्छा सा वीडियो बनाने की ख्वाहिश पैदा कर देगी। तो कुछ दिनों बाद एक रात सभी के लिए डिनर में पिज़्ज़ा बनाने के बाद हम तीनों मेरे भाई के कमरे में चले गए। दो बातें -  एक तो मैं बहुत थक गयी थी , २. मेरी भाभी को भी दिन भर की  थकान थी मगर फिर भी मेरे आग्रह पर उन्होंने मुझे कुछ समय के लिए अपना कमरा इस्तेमाल करने दिया। मैं आभारी हूँ अपने भाई और भाभी की। मेरे भाई ने ही ये वीडियो बनायी। 

ख़ैर, ड्रेस चेंज करने के बाद मैंने बच्चों से पूछा कि क्या वो वीडियो बनाने के लिए तैयार हैं? जब उन्होंने हाँ कहा तो मुझे ख़ुशी के साथ साथ आश्चर्य भी हुआ। यहाँ ये बात साफ़ कर दूँ कि रात के बारह बज रहे थे या शायद उससे भी ज़्यादा। फिर बच्चों की भावना को ध्यान में रखते  हुए मैंने अपने बाल ठीक कर लिए। जब मैं कोई काम करके कमरे में वापस लौटी तो देखा कि मेरी चंचल भतीजी मेरे मेक अप बॉक्स में से लिपस्टिक लगा रही है। मैं अवाक रह गयी।  इतनी छोटी सी लड़की और ये नखरे! मगर मैं भी  प्रसन्नता से उसके साथ लग गयी। बीच में मैंने उससे पूछा - 

फैशन करने के लिए तुम्हे नहीं लगता कि काफी रात हो गयी है?

इस पर उसने मुझे कहा - 

बुआ! फैशन करने के लिए दिन और समय नहीं देखा जाता। 

मैं हतप्रभ भी थी इस जवाब से और प्रभावित भी। इसके बाद हमने जल्दी से अपने भाई के कमरे पर धावा बोला। तकरीबन दूसरी बार की कोशिश में हमने एक बढ़िया वीडियो बना लिया। 



मुझे एक बार कहना ही पड़ेगा। अपने गिटार पर मैंने इतनी मस्ती कभी नहीं की थी। मेरी भतीजी के चेहरे से तो ख़ुशी जैसे टपक सी रही थी। इस वीडियो से आप अंदाज़ा लगा सकते हैं। मेरे बेटे ने भी अच्छा गाया। आखिरकार हम तीनो ने अपने दिन को एक अच्छा अंजाम दिया। लेकिन इसके पहले कि मैं यहाँ से विदा लूँ, कुछ तसवीरें शेयर करना चाहती हूँ। ये सब वीडियो के पहले लिए गए थे अभ्यास करते वक़्त। आखिर प्राकृतिक तस्वीरों में ही असली खूबसूरती छिपी होती है।











इसी पोस्ट को इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें: Playing Guitar with my son and niece

Comments

  1. Hello there! This post could not be written any better!

    Reading through this post reminds me of my good old room mate!
    He always kept talking about this. I will forward this write-up to him.
    Fairly certain he will have a good read.
    Thank you for sharing!

    ReplyDelete

Post a Comment

Let's hear your view on this, shall we?

Popular posts from this blog

निर्भया के लिए अमिताभ बच्चन की विलक्षण श्रद्धांजली

क्या प्यार ही सब कुछ है ?